राज्य सरकार का भरोसा: सड़क सुरक्षा में नए कदम

0
36
New steps in road safety

New steps in road safety

राज्य की सड़क सुरक्षा को और बेहतर बनाने के लिए प्रयासरत मुख्य सचिव राधा रतूड़ी ने एक बड़ा कदम उठाया है। परिवहन विभाग से मिली जानकारी के अनुसार, वह सड़क दुर्घटनाओं के बाद हुए डेथ ऑडिट के फलस्वरूप लिए गए सुधारात्मक कदमों की मांग की है। उन्होंने पूरी तरह से फेसलेस चालान सिस्टम को लागू करने के निर्देश दिए हैं। इसके साथ ही, उन्होंने राज्य की सीमा और मुख्य मार्गों पर एएनपीआर कैमरों की व्यवस्था के साथ-साथ शहरों में ड्रोन कैमरों से ट्रैफिक व्यवस्था की मॉनिटरिंग के निर्देश भी दिए हैं।

सीट बेल्ट और हेलमेट का नियम लागू

बैठक के दौरान, राज्य में सड़क दुर्घटनाओं को कम करने के लिए मुख्य सचिव ने डोपहिया वाहनों पर पीछे बैठने वालों के लिए हेलमेट पहनने और सभी के लिए सीट बेल्ट के नियम को सख्ती से लागू करने का आदेश दिया। यह कदम सड़क सुरक्षा में नया जोश भरेगा।

हाईटेक ट्रैफिक व्यवस्था की बढ़ती जरूरत

राज्य की ट्रैफिक व्यवस्था को हाईटेक बनाने के लिए भी कदम उठाया गया है। मुख्य सचिव ने सभी 13 जिलों में ड्रोन सेवाओं की व्यवस्था करने, ट्रैफिक सिगनल को एएनपीआर तथा आरएलवीडी सिस्टम से इंटिग्रेट और अपडेट करने का निर्देश दिया है। इसके साथ ही, वह हाई टेक मोटर बाइक, कैमरों के साथ राडार स्पीड साइन बोर्ड, डिजिटल स्पीड साइन बोर्ड और वेरिएबल मेसेज डिस्पले बोर्ड लगाने के लिए भी स्वीकृति दी है।

उत्तराखण्ड में सड़क सुरक्षा के लिए Good Samaritan योजना की प्रोत्साहना

उत्तराखण्ड में सड़क दुर्घटनाओं में अवस्था को सुधारने के लिए सरकार ने Good Samaritan योजना को बढ़ावा देने का निर्णय लिया है। पिछले वर्ष 67 गुड समेरिटन को 10 लाख की धनराशि दी गई थी और वर्ष 2024-26 में भी 10 लाख की धनराशि का प्रस्ताव किया गया है।

इस पहल के तहत, उत्तराखण्ड में Ministry of Road Transport and Highways, Government of India की Good Samaritan स्कीम को विभागीय स्तर पर लागू किया गया है। इसके अन्तर्गत, सड़क दुर्घटना में आपसी सहायता करने वाले व्यक्तियों को नगद पुरस्कार और प्रशंसा पत्र प्रदान किया जाता है।

इसके साथ ही, उत्तराखण्ड पुलिस ने विभागीय Good Samaritans पुरस्कार योजना की शुरुआत की है, जिसके अन्तर्गत सड़क दुर्घटना में असहाय व्यक्तियों को प्राथमिक चिकित्सा, अस्पताल पहुँचाने में सहायता और आर्थिक सहायता प्रदान की जाएगी। इस सम्मानीय पहल के माध्यम से सड़क सुरक्षा में सुधार की दिशा में महत्वपूर्ण कदम उठाया गया है।

बैठक में पुलिस महानिदेशक अभिनव कुमार, प्रमुख सचिव रमेश कुमार सुधांशु , सचिव अरविन्द सिंह हयाकी, वी षणमुगम सहित अन्य सम्बन्धित अधिकारी मौजूद रहे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here